Avashyakta Avishkar KI Janani Hai Essay in Hindi : हिंदी निबंध

Necessity Is the Mother of Invention Hindi Essay 

आवश्यकता आविष्कार की जननी है : निबंध

परिचय

‘आवश्यकता आविष्कार की जननी है’ यह एक विश्व प्रसिद्ध कहावत है जिसे बच्चा-बच्चा भी जानता है। यह उदाहरण तकनीकी नहीं है। इसके बजाय यह कुछ सरल व्याख्याओं के साथ अपने अर्थ की मतलब को समझाने के लिए बहुत आसान और सरल है जो इस कहावत को अत्यधिक प्रभावशाली बनाता है।

Avashyakta Avishkar KI Janani Hai Translate Into English

English Translation -Necessity Is the Mother of Invention

अर्थ-

कहावत ‘आवश्यकता आविष्कार की जननी है‘ का अर्थ है कि जब हमें किसी चीज़ की बहुत जरुरत पड़ती हैं और अगर हम उस विशिष्ट चीज़ के बिना खुश नहीं रह सकते हैं या जीवित नहीं रह सकते हैं तो हम उस आवश्यकता को पूरा करने के तरीके खोजते हैं जिसके परिणामस्वरूप नई चीज़ का आविष्कार होता है। अगर कोई भूखा है तो भूख को संतुष्ट करने के लिए खाना पकाया जाता है इसलिए भूख आवश्यकता है और भोजन आविष्कार है। कई अन्य उदाहरण हैं जो इस प्रसिद्ध कहावत के अर्थ को समझाते हैं।

वास्तव में दुनिया के अधिकांश लोकप्रिय और फायदेमंद चीजों की आवश्यकता का परिणाम है जिसने आविष्कारकों को बेचैन बना दिया और उत्पाद के आविष्कार करने को मजबूर किया है। ऐसे ही कुछ महानतम आविष्कार बल्ब, रेडियो, टेलीविजन, मोटर, मोबाइल, हवाई जहाज आदि हैं।

आविष्कार और आवश्यकता सह-संबंधित हैं और जब तक जरूरतें आवश्यकताएं नहीं बन जाती तब तक व्यक्ति कुछ नहीं करता। जो कुछ भी हम अपने दिन-प्रतिदिन जीवन में उपयोग करते हैं वह ज़रूरत या आवश्यकता के परिणाम हैं और उस आवश्यकता को पूरा करने के लिए मानव की इच्छा है। यह दर्शाता है कि एयर कंडीशनर, कार आदि जैसी लक्जरी वस्तुओं की खोज विशेष जरूरतों को पूरा करने के लिए किया गया है।

इन्हें भी पढ़ें –

आवश्यकता भी हमें मेहनती और प्रतिभा संपन्न बनाती हैं। यदि हम इतिहास को देखें विशेष रूप से आदिम युग, जब जीवित रहने के लिए मानव जाति के पास कुछ भी नहीं था, तब लोगों ने भोजन, कपड़े, घर आदि की खोज की और इस प्रकार सभ्यता की शुरुआत हुई।

कुछ आविष्कार हमारे जीवन को न केवल आरामदायक बनाते हैं बल्कि रहने लायक भी बनाते हैं जैसे बिजली का आविष्कार। बिना प्रकाश के जीवन की कल्पना कीजिए। हमें थॉमस एडिसन का धन्यवाद करना चाहिए जिनकी अधेंरे को दूर करने की प्रबल इच्छा ने इस संसार को रोशनी दिखाई।

लेकिन कुछ आविष्कार विनाशकारी भी हैं जैसे बंदूकें, बम, हथियार आदि। हालांकि इन हथियारों का स्वयं की सुरक्षा के लिए या राष्ट्र की सुरक्षा के लिए आविष्कार किया गया है लेकिन ये बहुत खतरनाक होते हैं जिनसे नुकसान पहुंचने का डर हमेशा बना रहता है। यह महत्वपूर्ण है कि स्वयं की जरूरत दूसरे के लिए विनाश का कारण नहीं बने।

आवश्यकताएं और आविष्कार सकारात्मक रूप से अंतर-संबंधित हैं और लोगों को कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करती है। मनुष्य धन कमाने के लिए, जो उन्हें नौकरी ढूंढने के लिए मजबूर करता है जिससे उन्हें पैसा मिलता जिसके फ़लस्वरूप उसका उपयोग करके वे भोजन, कपड़े, घर आदि की सभी प्रकार की जरूरतों को पूरा करने के लिए कर सकते हैं।

आवश्यकता न केवल लोगों को अस्तित्व के साधनों का आविष्कार करने के लिए मजबूर करती है बल्कि यह लोगों को अपने पेशे में पदोन्नति और बेहतर स्थिति प्राप्त करने के लिए चालाकी से काम करने के लिए भी प्रेरित करती है। पेशेवर जीवन में सफलता हासिल करने की इच्छा या दूसरों की तुलना में बेहतर बनने की कोशिश लोगों को प्रेरित करती है और इस तरह वे आपसी प्रतिस्पर्धा को जीतने के लिए नए-नए तरीकों का आविष्कार करते हैं।

निष्कर्ष-

आवश्यकता को पूरा करने और जीवन में सफलता हासिल करने तथा दूसरों को नुकसान पहुंचाने के लिए कोई विनाशकारी आविष्कार नहीं करना चाहिए। मुहावरा या कहावत को लोगों को उनके बचपन से ही सकारात्मकता बढ़ाने के लिए पढ़ाया जाता है और कहावत में भी हमें गलत की बजाए सही अर्थ को ढूँढना चाहिए।

 

Leave a Comment

x