Free Tarot Card Reading In Hindi Language | Yes or Not Tarot

आज टैरो कार्ड रीडिंग से जुडी इस पोस्ट में हम जानने वाले है की टैरो कार्ड रीडिंग क्या होता है? (What is tarot card reading) टैरो रीडिंग का इतिहास (History of Tarot Card Reading) लव टैरो कार्ड रीडिंग इन हिंदी? (Love tarot card reading in Hindi) टैरो कार्ड रीडर कैसे बनें? (How to become a tarot card reader?) टैरो कार्ड रीड करने की प्रक्रिया (Tarot card reading process)  टैरो कार्ड कहां से खरीदें व अन्य टैरो कार्ड से जुडी रोचक जानकारी।

Contents

Free Tarot Card Reading In Hindi Language

टैरो कार्ड क्या होता है? (What is Tarot Cards?)

वैदिक ज्योतिष में जिस प्रकार किसी का भविष्य जानने के लिए हस्तरेखा, जन्म कुंडली का अध्ध्यन किया है, उसी तरह आज के समय में इन विधियों में एक विधि और शामिल है या यूँ कह सकते है की आजकल एक नई विधि प्रचलित हो चुकी है जिसके माध्यम से भविष्य जाना जाता है। वैसे तो ये विधि प्राचीन काल से ही प्रचलित है लेकिन आज के समय में भविष्य जानने की यह विधि हर देश में प्रयोग में लायी जाती है। इसे विधि को टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) कहा है।

टैरो कार्ड रीडिंग में टैरो डेक के सभी टैरो कार्ड (Tarot Card) के ऊपर रंग, अंक, संकेत, जल, पृथ्वी, अग्नि, आकाश और वायु  जैसे पांच तत्व देखने को मिलते है। इन सभी टैरो कार्ड के ऊपर बने प्रतीकात्मक चित्रों के आधार पर ही मनुष्य के भविष्य का अनुमान लगाया जाता है। टैरो कार्ड का उपयोग मानसिक रीडिंग के लिए किया जाता है। मनुष्य के जीवन में आने वाली अनेक तरह की समस्याओँ का हल करने के लिए टैरो कार्ड विधि आज के समय में प्रयोग की जाती है। आज के समय में कई लोग अपने भविष्य को लेकर सवालों का जवाब पाने और अपने जीवन को एक दिशा देने के लिए टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) में विश्वास रखते है।

टैरो कार्ड्स रीडिंग का इतिहास (History of Tarot Card Reading in Hindi)

ज्योतिष की विधा टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) की शुरआत लगभग दो हज़ार साल पहले हुई थी। ऐसा माना जाता है की सर्वप्रथम टैरो कार्ड रीडिंग का प्रयास सेलिटक नामक देश के लोगो द्वारा भविष्य को जानने के लिए किया गया था। उस समय टैरो कार्ड लकड़ी के बनायें जाते थे, जिनसे ऊपर बने चित्रों को समझ पाना थोड़ा मुश्किल होता था। लेकिन समय के साथ साथ ये टैरो कार्ड आम तास के पत्तों की तरह कागज से बनाये जाने लगे। टैरो कार्ड रीडिंग का अधिक प्रचलन 1971 से हुआ, जब इन टैरो कार्ड को इटली में मनोरंजन के लिए प्रयोग किया जाने लगा। पहले इन टैरो कार्ड को सिर्फ सामान्य खेल के पत्तों की तरह केवल खेलने के लिए प्रयोग किया जाता था लेकिन 1971 के बाद इन टैरो कार्ड का इस्तेमाल ज्योतिष और भविष्य जानने के लिए किया जाना लगा और बाद में टैरो कार्ड द्वारा भविष्य जानने की इस विधा को टैरो कार्ड रीडिंग के नाम से जाना जाने लगा। इटली के बाद यह टैरो कार्ड रीडिंग विधा फ्रांस और इंग्लैंड में भी लोकप्रिय हुई। आज के समय में इंडिया में भी टैरो कार्ड रीडिंग का काफी चलन है।

टैरो कार्ड्स क्यों प्रयोग किये जाते है? (Why Tarot Card is Used?)

अगर आप अपने जीवन में किसी संकट से गुज़र रहें है या फिर आप जीवन में अनिश्चितता के दौर से गुज़र रहें है तो टैरो कार्ड रीडिंग आपके लिए एक अच्छा सुझाव हो सकता है। टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) आपके जीवन में चल रही वास्तिवकता को जानने में आपकी मदद कर सकते है।

टैरो कार्ड रीडिंग कैसे की जाती है? (How to read tarot card in Hindi?)

टैरो कार्ड रीडिंग के दौरान दो लोगों का होना जरुरी है। दोनों लोगों में से एक टैरो कार्ड रीडर होगा और दूसरा व्यक्ति कार्ड रीड करने वाले से अपने भविष्य को लेकर सवाल करेगा। जिस प्रकार कुंडली और हस्तरेखा कोई आम व्यक्ति न देखकर बल्कि एक ज्योतिष विद्धा का ज्ञान रखने वाला ही देख सकता है ठीक वैसे भी टैरो कार्ड (Tarot Card) को रीड करना भी इतना आसान नहीं होता। टैरो कार्ड को अनुभवी और ज्योतिष विद्या का ज्ञान रखने वाला व्यक्ति ही समझ पायेगा क्योकि इसमें भविष्य (Future) से जुडी जानकारी प्रतीकात्मक चित्रों के माध्यम से निहित होती है।

टैरो कार्ड रीडिंग के समय जो व्यक्ति भविष्य जानने की इच्छा रखता है, वही कार्ड को फैंटता है और दूसरा व्यक्ति इन टैरो कार्ड को रीड करता है व टैरो कार्ड (Tarot Card) पर बने चित्रों के माध्यम से उनमे छिपी जानकारी को समझता है और उसके बाद सामने वाले व्यक्ति को उसके भविष्य से जुडी जानकारी उसको बताता है। ज्योतिष की यह विधा आस्था और विश्वास से जुडी है। यदि कोई व्यक्ति टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) में विशवास नहीं रखता तो वह इसका न करें। टैरो कार्ड रीडिंग को कुछ लोग अन्धविश्वास के नज़रिये से देखते है लेकिन यह बात सच है की टैरो कार्ड का प्रयोग भविष्य को जानने के लिए किया जाता है। (Tarot cards is used to know about future.)

टैरो कार्ड से भविष्य जानने के तरीके (Way to know future through Tarot Card)

टैरोट कार्ड द्वारा निम्न तरीकों की मदद से भविष्य के बारे जाना जा सकता है –

  • पहले तरीके में तीन टैरो कार्ड (Tarot Card) की मदद से भविष्य को जाना जाता है। हमारे भूतकाल, वर्तमानकाल और भविष्यकाल के लिए इन तीन टैरो कार्ड का प्रयोग किया जाता है। ये तीनों कार्ड हमारे तीनों दशाओं के समय के बारे में बताते है और उस अनुसार अलग अलग समस्याओं और समाधान को दर्शाते है।
  • दूसरे तरीके में पांच कार्ड प्रयोग किये जाते है। इस तरिके के दौरान प्रयोग हुए पांच कार्ड में से दो कार्ड हमारी समस्याओं को दर्शाते है, दो कार्ड सुझाव की और संकेत करते है तथा एक कार्ड सवाल पूछ रहें व्यक्ति की मानसिकता को दर्शाता है।
  • टैरो कार्ड रीडिंग के तीसरे तरिके में सात टैरो कार्ड प्रयोग किये जाते है जिनमें से दो कार्ड जातक की समस्याओं को दर्शाते है तथा बाकी के पांच कार्ड उन समस्याओं से बचने के उपाय को दर्शाते नज़र आते है।

टैरो कार्ड रीडिंग प्रोसेस (Tarot Card reading process in Hindi)

टैरो कार्ड रीडिंग  (Tarot Reading) वैसे तो ज्योतिष विधा ही है लेकिन टैरो कार्ड रीडिंग विधा अन्य ज्योतिष विधाओं से अलग भी है। टैरो कार्ड रीडिंग करते समय मन शांत होना आवश्यक है क्योकि टैरो कार्ड रीडिंग हमारे अवचेतन मन से जुडी होती है। आईये टैरो कार्ड रीडिंग प्रोसेस  (Tarot Card Reading Process) को जानते है। 

  • टैरो कार्ड रीडिंग के समय दो लोगो का होना अनिवार्य है। एक टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) तथा दूसरा प्रशनकर्ता (जातक – जिसको अपना टैरो कार्ड रीड करवाना है। )
  • जातक को अपने दिमाग में पहले से ही अपना सवाल सोच लेना चाहिए की वह क्या पूछने वाला है।
  • अपना सवाल पूछने के बाद एक एक कर के आपको तीन कार्ड का चुनाव करना होगा।
  • टैरो कार्ड रीडर आपके द्वारा चुने गए इन तीन कार्ड का अच्छे से अवलोकन करेगा व आपके सवाल का जवाब आपको देगा।
  • पहला कार्ड हमेशा यह दर्शायेगा की जब जातक ने सवाल पूछा था उस समय उसकी मानसिक स्थिति कैसी थी।
  • दूसरा कार्ड जातक के सामने आने वाली समस्याओं का समाधान दर्शाता है।
  • तीसरा कार्ड जातक को उसके उसके द्वारा किये गए सवाल का पूर्ण उत्तर देगा।

टैरो कार्ड से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी (Interesting facts about Tarot Card Reading in Hindi)

  • “टरोमेंसी” शब्द टैरो कार्ड के लिए तकनिकी भाषा में प्रयोग किया जाता है, इसका अर्थ होता है कार्ड के उपयोग से भविषयवाणी करना।
  • टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) कोई जादू नहीं है बल्कि यह ज्योतिष की एक विधा होती है। टैरो कार्ड एक अलग तरह से डिज़ाइन किये गए सधाहरण तास के पत्तों के जैसे कार्ड ही होते है। टैरो कार्ड पर बने चित्रों (Signs) का गहन अर्थ होता है जिसे केवल एक टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) ही रीड कर सकता है। टैरो कार्ड रीडर की मानसिक क्षमता ही टैरो कार्ड को एक अर्थ प्रदान करती है।
  • टैरो कार्ड रीडिंग के समय अगर आप या फिर कोई टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) इन टैरो कार्ड को ठीक से रीड नहीं कर पता तो इसका कोई गलत परिणाम नहीं होता। बहुत से लोगो की गलत अवधारणा है की अगर टैरो कार्ड गलत तरिके से पढ़ लिए जाए तो कुछ बुरा परिणाम हो सकता है लकिन यह सच नहीं है।
  • टैरो कार्ड को शुद्ध करने या फिर किसी विशेष जगह रखने की वैसे तो जरुरत नहीं हैं लेकिन अगर आप अगर ऐसा करते भी है तो वो गलत भी नहीं होता है।
  • टैरो कार्ड डेक में 78 कार्ड होते है, जिसके हर कार्ड पर अलग अलग तरह के चित्र बने होते है। टैरो कार्ड के कार्ड को दो भागों में बांटा है जिनमें से एक मेज़र आर्काना और दूसरा है माइनर अर्काना। ये कार्ड मेजर अर्काना के 22 (0 से 21 नंबर) कार्ड और माइनर अर्काना के 56 कार्ड के मानक पैक (Standard Pack) में आते है। आर्काना शब्द का अर्थ होता है – ‘रहस्य’
  • जैसा की तास के पत्तों में जोकर होता है, टैरो कार्ड पैक (Tarot Card Deck) की शुरआत में The Fool नाम का कार्ड होता है जिसका नंबर ज़ीरो होता है।
  • टैरो कार्ड डेक के शुरू के 22 कार्ड जिन्हे मेजर आर्काना कार्ड बोला जाता है, हमारे जीवन की मुख्य घटनाओं को दर्शाते है। जबकि डेक के शेष कार्ड जो संख्या में 56 होते है, हमारे जीवन की अन्य घटनाओं और परस्थियों से सम्बंधित होते है।
  • टैरो कार्ड विधा कैसे काम करती है इस बात कोई ठोस सिद्धांत तो नहीं है लेकिन शुरआत से ऐसा माना जाता है की ज्योतिष शास्त्र की यह विधा हमारे अवचेतन दिमाग से जुडी है। माना जाता है की जब इन कार्ड्स को फैंटा जाता है तो टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) सामने वाले की मानसिकता की एक तस्वीर बना लेता है। अगर विज्ञान के नज़रिय से इसे देखा जाए तो हो न हो ये कहीं न कहीं मनोवैज्ञानिक के सिद्धांत पर ही काम करते नज़र आते है।
  • टैरो कार्ड रीडिंग के अलग अलग प्रकार होते है। टैरो कार्ड पर अंकित विभिन्न चित्रों की भाषा एक अनुभवी टैरो कार्ड रीडिंग ही समझ सकता है। टैरो कार्ड्स पर उपस्थित हर एक चित्र और रंग का अपना अलग संदेश होता है जिसे हर किसी द्वारा समझना उतना आसान नहीं है। एक अनुभवी टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) ही आपको टैरो कार्ड विधा से आपके सवालों का जवाब अच्छे से दे पायेगा।
  • टैरो कार्ड डेक के एक मानक पैक के सभी कार्ड का सीधा और उल्टा अर्थ हो सकता है जिसके अनुसार कभी कभी एक सकारात्मक कार्ड का नकारात्मक अर्थ और नकारात्मक कार्ड का सकारात्मक अर्थ भी हो सकता है।
  • टैरो कार्ड रीडिंग विधा का प्रयोग न केवल भविस्य को जानने के लिए बल्कि भावनात्मक और आध्यात्मिक मार्गदर्शन के लिए भी किया जा सकता है।

टैरो कार्ड में छिपे अर्थ – (Signs meaning of Tarot Card Reading in Hindi)

जैसा की हम जान चुके है की डेक के सभी टैरो कार्ड्स (Tarot Cards) अलग अलग तरह के चित्र बने होते है, इन सभी कार्ड पर बने इन प्रतीकात्मक चित्रों का अपना अलग अलग महत्व है। जैसा की देवी देवताओं की कहानियों में हमने सुना है की कुछ दैत्य शक्तियाँ होती है तो कुछ दानव ठीक उसी प्रकार टैरो कार्ड डेक के सभी कार्ड्स में अलग अलग मैसेज दिए होते है, जिनमें से कुछ हमारे लिए लाभदायक है तो कुछ हमारे लिए नुकसानदायी।

मेजर आर्काना के 22 कार्ड हमारे जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं की और इशारा करते है। मेजर आर्कान कार्ड व उनके ऊपर बने चित्र हमे क्या सन्देश देते है ये सब आप नीचे दिए गए मेजर अर्काना कार्ड की मदद से जान सकते है।

विभिन्न मेजर कार्ड के ऊपर दिए गए सन्देश का महत्व –

  • दी फूल (The Fool)

यह डेक का प्रथम कार्ड होता है जिसका नंबर 0 होता है। यह कार्ड भविष्य में होने वाली अप्रत्याशित सूचनाओं के प्रतीक के रूप में माना जाता है। इस कार्ड से अचानक आने वाली समस्याओं की सूचना टैरो कार्ड रीडर द्वारा सामने वाले व्यक्ति दी जाती है।

  • दी मैजीशियन

यह डेक का दूसरा कार्ड होता है मगर इस कार्ड पर अंकित नंबर 1 होता है। इस कार्ड का स्वामी गृह बुध होता है। बुध गृह नए अवसरों, इच्छा शक्ति और दृढ़ता का प्रतीक माना जाता है। यह टैरो कार्ड दर्शता है की संबंधित व्यक्ति पूरी मेहनत और लग्न के साथ किसी नए कार्य की शुरआत करने जा रहा है।

  • दी हाइ प्रीस्टेस

दी हाइ प्रीस्टेस का अर्थ होता है – पुजारिन । यह कार्ड जीवन के रहस्यों का मार्गदर्शन करता है, ऐसा माना जाता है। इस कार्ड का मतलब अगर हम सरल शब्दों में समझें तो यूँ कह सकते है की जीवन के किसी रहस्य से पर्दा उठने वाला है या फिर खुद प्रश्नकर्ता किसी रहस्य को खोलना चाहता है, उसे उजागर करना चाहता है।

  • दी एम्प्रैस

दी एम्प्रैस का अर्थ होता है – महारानी । इस कार्ड की संख्या नंबर 3 होता है। ये कार्ड आपके जीवन में होने वाली किसी शुभ घटना की और संकेत देते है। ये प्रेम, भरोसे जन्म और समृद्धि से जुड़े हुए माना जाता है।

  • दी एम्परर

4 नंबर के कार्ड का नाम दी एम्परर होता है जिसका अर्थ है – महाराजा। इस कार्ड की राशि मेष मानी गयी है। यह कार्ड किसी पुरुष के प्रभाव को आपके जीवन में दर्शता है अर्थात व्यक्ति के जीवन पर पुत्र, पिता, घर या फिर बाहर अन्य किसी पुरुष सदस्य का प्रभाव पड़ने वाला है।

  • दी हायरोफेन्ट 

दी हायरोफेन्ट जिसका अर्थ होता है : ज्योतिषी । इस कार्ड की राशि वृष होती है। यह कार्ड बुद्धिमानी, चुतराई, नैतिक कानून व्यहवहारिता गुरु का प्रतीक माना जाता है।

Love Tarot Card Reading In Hindi Language 

  • दी लवर्स 

दी लवर्स – प्रेमी । यह टैरो कार्ड जातक के प्रेम संबंध से जुड़ा है। यह प्यार भावना का प्रतीक है। इसका अर्थ होता है कि जातक के जीवन में प्रेम से संबंधित क्या चल रहा है या फिर क्या होने वाला है। क्योकि बहुत सी बार जातक (प्रशनकर्ता) प्रेम के उस समय से अनजान होता है।

  • दी चैरिएट 

दी चैरिएट का अर्थ होता है – रथ । इस कार्ड की राशि कर्क होती है। यह कार्ड टकरावों और संगर्ष की बाद विजय का प्रतीक माना जाता है। अगर जातक किसी संगर्ष के समय से गुज़र रहा है तो उसको कोशिशों को जारी रखना चाहिए क्योकि ऐसे में सफलता मिलने की संभावना होती है।

  • दी जस्टिस 

दी जस्टिस – न्यायधीश । यह कार्ड ईमानदारी और न्याय का परिचायक माना गया है। यह कार्ड सांझेदारी और मुकदमों में जातक द्वारा संतुलन, न्याय और ईमादारी दो दर्शाता है।

टैरो कार्ड रीडिंग की सीमाएं – (Limitation of Tarot Card Reading)

टैरो कार्ड रीडिंग के द्वारा भविष्य जानने से पहले आपको टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) कैसे ठीक से पढ़ा जाता है उसके बारे में जानकारी होना अनिवार्य है। टैरो कार्ड रीडिंग करते समय एसी किसी जगह को चुनें जहां शांती हो और आपके पास कुछ भी नकारात्मक ऊर्जा देने वाली वस्तु न हो। टैरो कार्ड से प्रश्नकर्ता अपना कार्ड चुनता है और सवाल करता है मगर इन टैरो कार्ड्स की मदद से वह अपने सवाल का जवाब अधिकतर समय में हाँ या ना में ही प्राप्त करता है। क्योकि टैरो कार्ड्स की मदद से जीवन में होने वाली घटनाओं का तो अनुमान लगाया जा सकता है लेकिन ये अनुमान लगा पाना मुश्किल हो जाता है की वह घटना कितनी प्रभावशीलता के साथ होगी और कब होगी।

मानसिक उलझन में फंसा इंसान जब कभी टैरो कार्ड रीडर के पास अपने टैरो कार्ड (Tarot Card) को रीड करवाने के लिए जाता है तो टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) उसके द्वारा चुने गए टैरो कार्ड को रीड कर उसको सही रास्ता तो देखा देता है। मगर कोई प्रशनकर्ता एक बार में सिर्फ एक प्रशन ही पूछ सकता है। जिसका जवाब उसको हाँ या फिर ना में ही मिल सकता है। अगला प्रशन पूछने के लिए कम से कम दो घंटों का अंतराल होना जुरूरी होता है।

टैरोट कार्ड रीड करने वाली अधिकतर महिलायें ही क्यों होती है ?

आपने अक्सर देखा होगा की टैरो कार्ड पढ़ने वाली अधिकतर महिलाएं ही होती है क्योकि इसके पीछे भी एक कारण माना जाता है। ज्योतिष की अधिकतर विधाओं में ज्योतिष पुरुष ही होते है लेकिन टैरो कार्ड रीडिंग (Tarot Card Reading) के क्षेत्र में अधिकतर ज्योतिष महिला ही होती है। टैरो कार्ड रीडिंग की विधा पूर्ण रूप से मानसिक प्रक्रिया से जुडी होती है। टैरो कार्ड रीडिंग के समय प्रशनकर्ता के दिमाग और टैरो कार्ड में छिपे सन्देश को देख कर अपने अनुमान के जरिये है प्रशनकर्ता के सवाल का जवाब दिया जाता है। ऐसा मन जाता है की कोई महिला पुरुष की तुलना में ऐसी स्थितियों का अनुमान अच्छे से लगा सकती है। इसी वजह से महिलायें पुरुषों की अपेक्षा अधिक अच्छे से टैरो कार्ड रीड करती है।

टैरो कार्ड रीडर कैसे बने (How to become a tarot card reader?)

अगर आप एक टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) बनना चाहते है तो उसके लिए सर्प्रथम आपको चीज़ों को समझना सीखना होगा और उसके बाद आपको टैरो डेक कार्ड से जुड़े सभी बिंदुओं को भी जानना होगा। आपको हर कार्ड से जुड़े सभी पहलुओं का पता होना जरुरी है क्योकि तभी आप अपने जातक के प्रश्नों के उत्तर दे पाएंगे।

एक अच्छा टैरो कार्ड रीडर बनने के लिए आपको अभ्यास के साथ साथ अवचेतन दिमाग से जुड़े निर्देशों को भी जानना सीखना होगा। अगर आप ऐसा बखूबी कर पाते है तो निश्चित ही आप एक अच्छे टैरो कार्ड रीडर (Tarot Card Reader) बन सकते है।

टैरो कार्ड कहां से खरीदें (Where to buy Tarot Cards?)

अगर आप एक टैरो कार्ड बनने की सोच रहें है या फिर आप एक टैरो कार्ड रीडर है और टैरो कार्ड (Tarot Card) खरीदनें की सोच रहें है तो आप इन्हें ऑनलाइन वेबसाइट, पूजा सामग्री की  फिर नजदीकी टैरो कार्ड कोचिंग क्लासेज से खरीद सकते है। टैरो कार्ड (Tarot Card) खरीदते समय कार्ड की गुणवत्ता (Quality) का विशेष ध्यान रखें की आप जो टैरो कार्ड प्रयोग करने वाले है उन टैरो कार्ड पर बने चित्र व रंग स्पष्ट रूप से नज़र आ रहें है या नहीं।

Related Search Term-

Love tarot card reading in Hindi
Yes or Not Tarot
Tarot Card reading for love in Hindi
Online Tarot Card reading in Hindi
Free tarot card reading in Hindi Language
Tarot card reading in Hindi yes or no
Tarot Reading

 

दोस्तों उम्मीद करते है टैरो कार्ड रीडिंग इन हिंदी (Tarot card reading in Hindi Language) से जुडी आज की पोस्ट आपको जुरूर पसंद आयी होगी। लव टैरो कार्ड रीडिंग (Love tarot card reading in Hindi) और टैरो कार्ड क्या होता? (What is tarot card reading?) जैसे सवालों के जवाब भी आपको मिल गए होंगे। दोस्तों आपको पोस्ट कैसी लगी अपने विचर कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक पहुँचाना न भूलें। किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है। आपके सुझाव हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसी तरह के रोचक हिंदी लेख को पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर नियमित रूप से विजिट करते रहें। धन्यवाद। 

Leave a Comment

x