Demonetization Essay in Hindi | नोटबंदी पर निबंध

Essay On Demonetization in Hindi (विमुद्रीकरण पर निबंध)

नोटबंदी पर निबंध (Notebandi Par Nibandh)

विमुद्रीकरण 8 नवंबर, 2016  को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़ा कदम उठाते हुए 500 और 1000 के नोटों को उसी रात 12:00 बजे से बंद किए जाने की घोषणा की। यानी 9 नवंबर से कुछ जगहों (पेट्रोल पंप, अस्पताल, रेलवे स्टेशन इत्यादि) को छोड़कर देश में कहीं भी 500 और 1000 के नोटों से लेनदेन रोक पर रोक लग गई।

What is Demonetization in Hindi -विमुद्रीकरण क्या है ?

क्या है विमुद्रीकरण- जब किसी देश की सरकार किसी पुरानी मुद्रा को कानूनी तौर पर बंद कर देती है तो उसे विमुद्रीकरण (डिमॉनेटाइजेशन) कहते हैं। विमुद्रीकरण (नोटबंदी) के बाद उस मुद्रा की कुछ कीमत नहीं रह जाती। उससे किसी तरह की खरीद-फरोख्त नहीं की जा सकती। सरकार द्वारा बंद किए जा गए नोटों को बैंकों में बदलकर उसकी जगह नई नोट लेने के लिए समयसीमा तय कर देती है।

क्यों किया जाता है- सरकार ऐसा कई कारणों से कर सकती है। सरकार पुराने नोटों की जगह नई नोट लाने पर पुराने नोटों का विमुद्रीकरण (Notebandi) कर देती है। मुद्रा की जमाखोरी काला धन को खत्म करने के लिए भी बड़े राशि के नोटों का विमुद्रीकरण (नोटबंदी) किया जाता है। आंतकवाद, अपराध और तस्करी जैसे आपराधिक कामों में भी बड़े पैमाने पर नगद लेनदेन होता है।

और पढ़ें –

इन कामों में लिप्त लोग कई बार नगद राशि अपने पास जमा रखते हैं। बाजार में कई बार नकली नोट भी प्रचलन में आ जाते हैं। सरकार नकली नोटों से छुटकारा पाने के लिए पुराने नोट बदल देती है। जालसाजी से बचने के लिए नई तकनीकी से तैयार किए गए ज्यादा सुरक्षित नोट लाने पर भी सरकार पुराने नोटों का विमुद्रीकरण (नोटबंदी) कर देती है।

टैक्स चोरी के लिए किए जाने वाले नगद लेन-देन को हतोत्साहित करने के लिए भी सरकारें कई बार विमुद्रीकरण (Notebandi) का रास्ता अपनाती हैं।

(Benefits of Demonetization in Hindi) नोटबंदी के फायदे-

  • जाली नोटों का चलन इस कदम से 100% खत्म हो जाएगा। इससे देश की अर्थव्यवस्था में सुधार आएगा और देश की अर्थव्यवस्था और मजबूत होगी।
  • पैसे की वजह से जो अशांति फैलती है थी, वह रुक गई है इससे पहले कितनी आतंकी घटनाएं सुनने को मिलती थी, अब सभी बंद हो गयी हैं। देश के आतंकी नक्सली और जिहादी ठंडे पड़ चुके हैं।
  • हवाला के जरिए जो पैसा नक्सलियों, आतंकियों और जिहादियों तक पहुंचता था, उस पर लगाम लग गई है।
    भारत के राजकोषीय घाटे में भी कमी आयी है।
  • सभी बड़े उद्योगपति अपने टैक्स जमा कर रहे हैं, जो पिछले कई सालों से झूठ बोलकर कम टैक्स देते थे। अब वे लोग भी पूरा टैक्स दे रहे हैं। इससे देश का विकास भी होने वाला है।
  • छोटे छोटे दुकानदार भी अब डिजिटल तरीके से पैसे का लेन देन शुरू कर रहे हैं। जो लोग पहले केवल कस लिया करते थे, अब वह भी पेटीएम डिजिटल वॉलेट का इस्तेमाल कर रहे हैं।

(Notebandi Ke Nuksaan) नोटबंदी के नुकसान-

जब कभी कोई देश विमुद्रीकरण (Notebandi) करता है तो दुनिया में उसकी साख गिरती ही है यह बेहद आम बात है। कम से कम 75 फ़ीसदी व्यापार प्रभावित हुआ है, विदेशी निवेशकों की बाजार में लगातार बिकवाली ने रुपए को कमजोर करके 68 पर पहुंचा दिया है।

Demonetization (Notebandi) Essay Pdf Download Link-

Click Here to Download PDF

Leave a Comment

x