Essay on Republic Day in Hindi – गणतंत्र दिवस निबंध व भाषण

26 January nibandh, short essay on republic day
Spread the love

आज के निबंध का विषय है – गणतंत्र दिवस पर निबंध (Essay on Republic Day in Hindi). गणतंत्र दिवस महत्वपूर्ण राष्ट्रीय दिनों में गिना जाने वाला एक दिन है जिसे हम भारतीय बड़ी उत्सुकता से मनाते है। इसलिए आज हम इसी राष्ट्रीय महत्वपूर्ण दिन को लेकर निबंद लेकर आये है। गणतंत्र दिवस निबंध (26 January Nibandh) अधिकतर परीक्षाओं में पूछा जाता है इसलिए आपका इसको जाना बहुत जरुरी है। इसलिए चलिए इस महत्वपूर्ण निबंध के बारे में जान लेते है। इसी पोस्ट में आप गणतंत्र दिवस भाषण (Republic Day Speech) को भी पढ़ सकते है और साथ में गणतंत्र दिवस निबंध को इंग्लिश (Republic Day essay in English) में भी पढ़ पाएँगे।

Republic Day Essay in Hindi- गणतंत्र दिवस निबंध

गणतंत्र दिवस – छब्बीस जनवरी 

राष्ट्रीय पर्वों में 26 जनवरी का विशेष महत्व है। सवतंत्रता से पूर्व इस दिन स्वतंत्र होने की प्रतिज्ञा दोहरायी जाती थी। लेकिन अब स्वतंत्रता मिलने की पश्चात इस दिन अपनी प्रगति पर दृष्टि डालते है। अखिल भारतीय कांग्रेस के लाहौर में 26 जनवरी 1929 को हुए अधिवेशन में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया था कि “पूर्ण स्वराज्य प्राप्त करना ही हमारा मुख्य ध्येय है।” अखिल भारतीय कांग्रेस तत्कालीन अध्यक्ष पंडित जवाहरलाल नेहरू ने रावी नदी के तट पर घोषणा की थी कि यदि ब्रिटिश सरकार औपनिवेशिक स्वराज्य देना चाहे तो इसके लागू होने की घोषणा 31 दिसम्बर 1929 तक कर दे। अन्यथा 1 जनवरी 1930 से हमारी मांग पूर्ण स्वाधीनता की होगी। इस घोषणा के बाद कांग्रेस द्वारा तैयार किया गया प्रतिज्ञा पत्र पढ़ा गया। 

पूर्ण स्वाधीनता के समर्थन में देश भर में 26 जनवरी 1930 को तिरंगे ध्वज के साथ जुलूस निकले गये और सभायें की गई। इनमे प्रस्ताव पास कर प्रतिज्ञा की गयी जब तक हम पूरी तरह स्वतंत्र नहीं हो जाते हमारा स्वतंत्रता आंदोलन जारी रहेगा। कोई कितनी बड़ी बाधा क्यों न हो जाये लेकिन हमारा यह आंदोलन अब थमने वाला नहीं। इस आंदोलन के तहत स्वतंत्रता की वेदी पर अनेक लालों का रक्त चढ़ा, कईयों ने लाठी व गोली खाई और जेलों में जाना पड़ा। अंततः पंद्रह अगस्त 1947 को देश स्वतंत्र हो गया। हम भारतीयों का स्वतंत्रता का सपना आखिरकार साकार हो गया।

26 January Essay in Hindi – 26 जनवरी निबंध 

सन 1950 में भारतीय सविधान बनकर तैयार जो गया। डॉ भीमराव अम्बेडकर की अध्यक्षता में गठित सिमित द्वारा तैयार भारतीय सविधान को लागू करने की तिथि को लेकर काफी विचार विमर्श किया गया। अंततः 26 जनवरी, 1950 को इसे लागू कर दिया गया।  इस दिन भारत में 22 भाग, 7 अनुसूचियाँ तथा 395 अनुच्छेद हैं। सविधान में स्पष्ट किया गया है कि भारत समस्त राज्यों का एक संघ होगा।


इन्हें भी पढ़ें –


जनता में उत्साह और प्रेरणा जागृत करने के उद्देश्य से गणतंत्र दिवस (Republic Day) के अवसर पर केंद्र सरकार सहित सभी राज्य सरकारों की ओर से कार्यक्रम आयोजित किए जाते है। देश की राजधानी में यह समारोह विशेष रूप से मनाया जाता है। गणतंत्र दिवस के एक दिन पहले शाम को राष्ट्रपति देश के नाम संदेश देते है। गणतंत्र दिवस की सुबह इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति का अभिवादन कर इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम की शरुआत होती है। अमर जवान ज्योति का अभिवादन प्रधानमंत्री द्वारा किया जाता है। इसके कुछ देर बाद राष्ट्रपति इस अवसर पर सैनकों द्वारा निकाले जाने वाली परेड की सलामी लेने के लिए इंडिया गेट के पास ही स्थित मंच पर आते हैं। जहां उनका सेना के तीनों अंगों के सेनाध्यक्षों द्वारा स्वागत किया जाता है। इसके बाद वह मंच पर बना आसन ग्रहण करते है। इस अवसर पर राष्ट्रपति द्वारा सैनकों को उत्क्रृश्ट कार्य के लिए सम्मानित भी करते है।

26 January Par Nibandh Hindi Mein

इसके बाद आरम्भ होती है गणतंत्र की परेड। इसमें सबसे पहले जल, थल और वायु सेना के वे अधिकारी होते हैं जिन्हें परमवीर चक्र, अशोक चक्र, शौर्य चक्र आदि से सम्मानित किया जाता है। इसके बाद सेना की तीनों अंगों की टुकड़ियां आती है। सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस, केंद्रीय औधोगिक सुरक्षा बल सहित अन्य अर्द्ध सैनिक बलों की टुकड़ियां भी परेड में शामिल होती हैं। परेड में सेना व अन्य अर्द्ध सैनकों की बैंड भी शामिल होते है, जो राष्ट्रीय धुन बजाते है। इसके बाद सरकारी उपक्रमों सहित राज्यों की संस्कृति व उपलब्धि को दर्शाती झांकियां निकलती है। परेड के अंत में स्कूली बच्चे करतब दिखाते है।

राजपथ से शुरू होने वाली यह परेड पहले इंडिया गेट, कनाट प्लेस, मिंटो रोड होते हुए लालकिले जाती है। लेकिन पिछले एक-दो वर्षों से आंतकवादी गतिविधियों एवं सुरक्षा कारणों से इसका रास्ता बदल दिया गया है। अब यह इंडिया गेट से बहादुरशाह जफर मार्ग होते हुए लाल किले पहुँचती है। परेड के अंत में वायु सेना के विमान तिरंगी गैस छोड़ते हुए विजय चौक के ऊपर से गुजरते हैं। कुछ विमानों द्वारा पुष्प वर्षा भी की जाती है। इस अवसर पर संसद भवन सहित प्रमुख भवनों पर विशेष प्रकाश व्यवस्था की जाती है। उन्हें दुल्हन की तरह सजाया है। इस दिन शाम को राष्ट्रपति द्वारा अपने निवास पर सांसदों, राजनीतिज्ञों, राजदूतों तथा अन्य गणमान्य को भोज दिया जाता है।


Speech on Republic Day | rePublic day speech

I would like to say good morning to My Respected Principal, Sir, Madam and my dear calleagues. As we all know that we get together here to celebrate Republic Day of our nation. This is very auspicious occasion for all of us. Since 1950, we are celebrating Republic Day every year with lots of joy and happiness. Before starting the celebration, our chief of the Republic Day hoists the national flag of India. Then we all stand up and sing our Indian national anthem which is a symbol of y and peace in India. Our National Anthem is written by the great poet Rabindranath Tagore.

Our national flag has three colors and a wheel in the center with 24 equal stacks. All the three colors of our Indian National Flag have some meaning. The top saffron color of our flag denotes the strength and courage of our country. The middle white color indicates peace however lower green color indicates growth and prosperity. There is a navy blue wheel in the center having 24 equal spokes indicating Dharma Chakra of the great king Ashoka.

We celebrate republic day on 26 January as the Indian constitution came in to force on the day in 1950. At the Republic day celebration, a big arrangement takes place by the government of India in New Delhi at Rajpath in front of the India Gate. Every year a chief guest (prime minister of other countries) is invited to fulfill the purpose of saying “Atithi Devo Bhava” as well as enhance the glory of the occasion. Indian army do republic day parade and take the te of the National Flag. There is also a big exhibition of the Indian culture and tradition takes place by the different Indian states to show the Unity in Diversity in India.


Republic Day Essay in English

In India 26th of January is celebrated as Republic Day every year because the constitution of India came into force on this day. It is celebrated as the national festival of India which has been declared a national holiday. Gandhi Jayanti and Independence Day are two other national holidays. On the 26th of January in 1950 our country became a fully democratic republic after reinforcement of the Constitution of India in the Indian Parliament.

On this day a great Indian army parade takes place which generally starts from the Vijay Chownk and ends at India Gate. Indian army (Army, Navy, and Air-force) salutes the President of India while parading on the Rajpath. Indian army displays the power of India through the parade and demonstrating all the great inventions like tanks and big guns. After the army parade, every state of India shows its Jhankis displaying their culture and tradition. After that, a tri-color (our honorable National Flag colors like saffron, green and white) flowers showering takes place in the sky by the airplanes.

Students celebrate this day in the school and colleges by organizing great events like a parade, Flag unfolding, singing, National Anthem, read a speech, play roles of freedom fighters, dance, singing, drama play, helping in social campaign, quiz competitions, essay writing, poster display, magic, comedy activities, etc. On this day every Indian should take an oath to make this country a peaceful and developed country. In the end, every student gets sweets and namkin and go their home happily……………Jai Hind, Jai Bharat…

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *