HomeEssay in HindiRashtravad Par Nibandh Hindi Mein | राष्ट्रवाद पर निबंध

Rashtravad Par Nibandh Hindi Mein | राष्ट्रवाद पर निबंध

Essay on Nationalism in Hindi (राष्ट्रवाद क्या है?)

राष्ट्रवाद पर निबंध

अपने देश के प्रति लगाव एवं समर्पण की भावना राष्ट्रवाद कहलाती है। राष्ट्रवाद (Nationalism) ही तो है जो किसी भी देश के सभी नागरिकों को परम्परा, भाषा, जातीयता एवं संस्कृति की विभिन्नताओं के होने बावजूद भी उन्हें एकसूत्र में बांधती है।

हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में राष्ट्र की तुलना माँ से की जाती रही है। जिस प्रकार माँ अपने बच्चों का भरण-पोषण करती है उसी प्रकार एक राष्ट्र भी अपने नागरिकों के जीवन की विभिन्न आवश्यकताओं को अपने प्राकृतिक संसाधनो द्वारा पूरा करती है।

हम राष्ट्रवाद की भावना द्वारा ही वर्गीय, जातिगत एवं धार्मिक विभाजनों कई मतभेदों को भुलाने में कामयाब होते हैं और ऐसा देखा गया है कि जब भी किन्हीं दो देशों में युद्ध की स्थिति पैदा होती है तो उन देशों के सभी नागरिक एकजुट होकर देशहित में राष्ट्रवाद (Rashtravad) की भावना के साथ अपने-अपने देश के सैनिकों की हौसला अफजाई करते हैं।

पढ़ें –

राष्ट्रवाद (Nationalism) एक ऐसी सामूहिक भावना है जिसकी ताकत का अंदाज़ा इस हकीकत से लगाया जा सकता है कि इसके आधार पर बने देश की सीमाओं में रहने वाले लोग अपनी विभिन्न अस्मिताओं के ऊपर राष्ट्र के प्रति निष्ठा को ही अहमियत देते हैं और आवश्यकता पड़ने पर देश के लिए प्राणों का बलिदान भी देने में नहीं हिचकिचाते।

राष्ट्रवाद की भावना की वजह से ही एक-दूसरे से कभी न मिलने वाले और एक-दूसरे से पूरी तरह अपरिचित लोग भी राष्ट्रीय एकता के सूत्रमें बँध जाते हैं। विश्व के सभी देशों में राष्ट्रवाद (Rashtravad) के ज़रिये ही नागरिकों में राष्ट्र से सम्बंधित विभिन्न मुद्दों पर सहमति बनाने में कामयाब हो पाए हैं।

कुछ विद्वानों के अनुसार भूमण्डलीकरण की प्रक्रिया ने राष्ट्रवादी चिंतन को काभी हद तक प्रभावित किया है और अब क्योंकि राष्ट्रीय सीमाओं के कोई ख़ास मायने नहीं रह गये हैं और इस स्थिति ने राष्ट्रवाद (Nationalism) की भावना को चुनौती पेश की है। उनका तर्क यह है कि भूमण्डलीकरण के अलावा इंटरनेट और मोबाइल फोन जैसी प्रौद्योगिकीय प्रगति ने दुनिया में फासलों को बहुत कम कर दिया है, हालांकि राष्ट्रवाद की यह व्याख्या सारहीन है।

किसी भी राष्ट्र की प्रगति के लिए उसके नागरिकों में राष्ट्रवाद की भावना का होना ज़रूरी है। राष्ट्रवाद की महत्ता को समझते हुए और अपने नागरिकों में देश-प्रेम की भावना की पुनरावृत्ति करने के उद्देश्य से पूरे विश्व में सभी सरकारें अनिवार्य रूप से राष्ट्रीय पर्वों का आयोजन करती है। इन कार्यक्रमों के दौरान राष्ट्रीय ध्वज के प्रति सम्मान व्यक्त किया जाता है।

कुल मिलाकर किसी भी राष्ट्र की प्रगति के लिए नागरिकों की एकता एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है और राष्ट्रवाद ही वह भावना है जो लोगों को धर्म, जाति एवं ऊंच-नीच के बंधनों को खतम कर उसे एकता के सूत्र में पिरोती है।

About Nationalism in Hindi Wikipedia Link-

Click Here

Related Search Terms-

rashtravad kya hai hindi mai
concept of nationalism in hind
definition of nationalism in hindi
Parul Sharmahttps://hinditipsguide.com
Hi Guys, Myself Parul Sharma. I am a Creative Graphic Designer and Blogger since 2015. I like and love art and nature so I love my work and represent it to other nature lovers. If you also an art lover then you can join us and make fun and learn together in the future. So stay connected with our blog. Thanks
RELATED ARTICLES

Most Popular