हिंदी साहित्य में मुंशी प्रेमचंद की रचनाओं का विशेष स्थान है। आगे की स्लाइड्स में जानें मुंशी प्रेमचंद के जीवन परिचय, रचनाएँ व भाषा शैली के बारे में। 

1880-1936

मुंशी प्रेमचंद

जन्म - 31 जुलाई 1880 जन्म स्थान - वाराणसी के लमही गाँव मे हुआ था मृत्यु - 8 अक्टूबर 1936 माता - श्रीमती आनंदी देवी पिता - श्री अजायब राय

मुख्य रचनाएं

कर्मभूमि, निर्मला, गबन, प्रतिज्ञा, गोदान, पंच परमेश्वर, नशा, कफन, पूस की रात, ठाकुर का कुआं, दो बैलों की कथा, कुत्ते की कहानियां, टालस्टाय की कहानियां मनमोदक, लालची,

मुंशी प्रेमचंद

"सिर्फ उसी को अपनी सम्पत्ति समझो ,  जिसे तुमने महेनत से कमाया है " "आत्मसम्मान की रक्षा करना , हमारा सबसे पहला धर्म है "

मुंशी प्रेमचंद के साहित्य में अधिकांशत तद्भव, देशज, अरबी, फारसी व अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग किया है।

भाषा शैली

Thick Brush Stroke

पूरा जीवन परिचय पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें