HomeBlogingWhat is plagiarism and plagiarism checker tool in Hindi

What is plagiarism and plagiarism checker tool in Hindi

अगर आप एक ब्लॉगर है तो आपने plagiarism के बारे में तो जरूर सुना ही होगा। आज की पोस्ट में SEO से जुड़े  इसी महत्वपूर्ण विषय के बारे में हम बात करने वाले है जो आपके लिए काफी लाभदायक हो सकता है। जैसा  की हमने ऊपर बताया की आप plagiarism शब्द से तो भली भाँती परिचित है ही। मगर क्या आप इसका असल मतलब जानते है की – what is plagiarism and what plagiarism checker tool. अगर नहीं तो चलिए जान लेते है की what is plagiarism ?

What is plagiarism

ब्लॉग्गिंग की क्षेत्र में ये सवाल बहुत ही पॉपुलर है की plagiarism का मतलब होता है किसी भी दूसरे person के काम खुद के साथ मिलकर दिखाना।

अगर एक ब्लॉगर के अनुसार plagiarism की परिभाषा देखी जाये तो वो कुछ इस तरह होगी “किसी के कंटेंट को या फिर किसी भी वेबसाइट से कंटेंट कॉपी करने के बाद उसी कंटेंट को अपने नाम के साथ अपनी वेबसाइट पे पब्लिश करना plagiarism माना जाता है।”

Plagiarism को किसी भी दृश्टि से सही नहीं माना जाता। क्योकि अगर plagiarism शब्द का असल अर्थ देखा जाये तो उसका मतलब होता है – साहित्य की चोरी करना। जो की बिलकुल गलत है। कहि न कहि हम ब्लॉगर की परिभाषा तो plagiarism को लेकर सही है मगर हमारे actions ठीक नहीं है।

क्योकि किसी के द्वारा लिखा गया कंटेंट पर उसी पर्सन का अधिकार है न की आपका इसलिए किसी भी वेबसाइट से इस तरह कंटेंट चुराना बिलकुल उचित नहीं है और ये अनैतिकता का परिचय भी माना जाता है।

Google भी इस बात की बिलकुल पक्ष में नहीं है की आप किसी और वेबसाइट से कंटेंट कॉपी करने के बाद उसे अपनी वेबसाइट पे पोस्ट करें। क्योकि ऐसा करने से गूगल के डेटाबेस  में कहि न कहीं duplicacy बढ़ रही है। जिसकी वजह से गूगल के यूज़र्स को रियल इनफार्मेशन मिलने में प्रॉब्लम होने लगती है। यही मैं कारण है जिसके वजह से गूगल हमेशा ही plagiarism contents को नकारता आया है।

अगर आप  plagiarism कंटेंट से अपने ब्लॉग को बनाने की सोच रहें है या फिर ऐसा करते है तो, उसका कोई फायदा नहीं होता है, क्योकि गूगल ऐसे ब्लॉग या फिर वेबसाइट को बिलकुल भी allow नहीं करता। आप गूगल तो क्या किसी भी सर्च इंजन में अपनी वेबसाइट को रैंक नहीं करवा पाएंगे। क्योकि कोई भी सर्च इंजिन हमेशा ओरिजनल कंटेंट वाली वेबसाइट को ही रैंकिंग में जगह देता है। और सबसे मुख्य बात की plagiarist content blog या website पे गूगल कभी भी adsense का अप्रूवल नहीं देता। अगर आप गूगल के साथ काम करना चाहते है तो आपका अपने फ्रेश कंटेंट के साथ गूगल के पास आना होगा।

What is plagiarism checker tools ?

आप what is plagiarism  को तो अच्छे से समाज गए होंगे और plagiarism word को समझने के बाद आपने plagiarism checker tool के बारे में तो थोड़ा बहुत अंदाज़ा लगा ही लिया होगा की ये क्या हो सकता है। ये कुछ ऐसे टूल्स होते है जो बहुत  सी वेबसाइट पर ऑनलाइन उपलब्ध होते है , जिनकी मदद से आप अपने कंटेंट को चेक करते है की आपका कंटेंट plagiarize है या नहीं। इन टूल्स का काम होता है जो कंटेंट आप इनके अंदर डालो ये उस कंटेंट को इंटरनेट के ऊपर उपलब्ध लाइव वेबसाइट के डाटा से मैच करती है की कहाँ किसी ब्लॉग या वेबसाइट से आपका कंटेंट मैच कर रहा है। ये टूल इस तरह डेटाबेस मैचिंग से आपको रिजल्ट शो करते है। इंटरनेट पर अगर आप plagiarism checker tool सर्च करते है तो आपको बहुत से ऐसे टूल्स देखने को आसानी से मिल जायेंगे जिन्हे आप फ्री में यूज़ कर सकते है। लेकिन ये जरुरी नहीं है की सभी plagiarism टूल्स आपको सही और सटीक जानकारी दे इसलिए टूल्स को प्रयोग करने से पहले उसकी क्वालिटी जरूर चेक कर लें।


ये भी जरूर पढ़ें – ब्लोग्गेर्स के लिए 12 महत्वपूर्ण बेस्ट क्रोम एक्सटेंशन 


उम्मीद करते है आप Plagiarism और Plagiarism Tools के बारे में अच्छे से जान गए होंगें। अगर इस पोस्ट से जुड़ा कोई सवाल आप हमसे पूछना चाहते है तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है। धन्यवाद।

Parul Sharmahttps://hinditipsguide.com
Hi Guys, Myself Parul Sharma. I am a Creative Graphic Designer and Blogger since 2015. I like and love art and nature so I love my work and represent it to other nature lovers. If you also an art lover then you can join us and make fun and learn together in the future. So stay connected with our blog. Thanks
RELATED ARTICLES

Most Popular